Corona के चलते IPL खिलाडियों पर पड़ी इन 10 नियमों की मार

IPL के 14वें सीजन का आगाज 9 अप्रैल से होगा और पहला मुकाबला MI और RCB के बीच खेला जाएगा

IPL के 14वें सीजन का आगाज 9 अप्रैल से होगा और पहला मुकाबला MI और RCB के बीच खेला जाएगा. भले ही लीग इस बार भारत में हो रही है, लेकिन Corona की वजह से कई बदलाव भी हुए हैं. जैसे इस बार फाइनल समेत सभी 60 मैच 6 शहरों में ही खेले जाएंगे. इसमें अहमदाबाद, बेंगलुरु, चेन्नई, दिल्ली, मुंबई और कोलकाता शामिल हैं. यह लगाातार दूसरा साल होगा जब कोरोना महामारी के खतरे के बीच IPL के मुकाबले बिना दर्शकों के खेले जाएंगे. पिछली बार Covid-19 के खतरे के बीच IPL के मुकाबले संयुक्त अरब अमीरात में आयोजित किए गए थे.

जानिए वो 10 नियम जिन्हें मानना है जरूरी:

1. परिवार और मालिकान रहेंगे बायो-बबल में:

खिलाड़ियों और उनके परिजनों के साथ-साथ टीमों के मालिक भी बेहद जरूरी होने पर ही बायो-बबल से निकल सकते हैं. उन्हें बाहर निकलने के लिए BCCI के मुख्य चिकित्सा अधिकारी से औपचारिक अनुमति लेनी होगी.

2. होटल में टीम एरिया को किया जाएगा सील:

खिलाड़ियों की सुरक्षा के लिए BCCI ने कहा कि टीमों को अपने दल के लिए पूरे होटल को बुक करना चाहिए. यदि यह संभव नहीं है तो होटल का एक पूरा विंग टीम के लिए आरक्षित होगा और उन लोगों के लिए बंद कर दिया जाएगा जो दल का हिस्सा नहीं हैं. यह बाहर के लोगों के साथ संपर्क के किसी भी अवसर को रोक देगा.

3. नजर रखेंगे 'बबल इंटीग्रिटी मैनेजर्स':

बायो-बबल का बेहद कड़ाई से पालन करने के लिए हर टीम के लिए ’बबल इंटीग्रिटी मैनेजर्स’ की 4 सदस्यीय टीम बनाई जाएगी. वे यह सुनिश्चित करेंगे कि खिलाड़ी और सहयोगी स्टाफ कड़े नियमों का पालन करें. इस समूह की जिम्मेदारी होगी कि वह किसी भी प्रोटोकॉल के उल्लंघन के बारे में अधिकारियों को सूचित करे.

4. खिलाड़ी खुद निकालें अपना खर्चा:

IPL अधिकारियों ने यह भी निर्णय लिया है कि वे खिलाड़ी जो इंग्लैंड, यूरोप, दक्षिण अफ्रीका, ब्राजील और मध्य पूर्व से आ रहे हैं, उन्हें 7 दिनों के लिए क्वारंटाइन होना पड़ेगा. इसके लिए उन्हें खुद अपना खर्च उठाना होगा.

5. तुरंत बदली जाएगी गेंद:

क्रिकेट मैच में इस्तेमाल होने वाली गेंद हालांकि कोरोना वायरस के खतरनाक वाहक नहीं हैं लेकिन जोखिम से बचने के लिए यदि कोई गेंद स्टैंड में या मैदान के बाहर जाती है, तो उसे तुरंत बदल दिया जाएगा. हालांकि गेंद को सैनेटाइज कर दोबारा वापस उपयोग में लाया जा सकता है.

6. बबल टू बबल की सुविधा:

खिलाड़ियों पर क्वारंटाइन का भार कम करने के लिए BCCI ने भारत और इंग्लैंड सीरीज में हिस्सा ले रहे उन खिलाड़ियों को सीधे IPL  बायो-बबल में आने की अनुमति दी है जो फिलहाल बायो-बबल में हैं.

7. चेन्नई में जारी होगा विशेष पास:

चेन्नई पहुंचने वाले खिलाड़ियों को एक विशेष ई-पास लेना होगा जो तमिलनाडु सरकार द्वारा जारी किया जा रहा है. यह इस राज्य में लागू किए गए विशेष नियमों के अनुसार है.

8. बबल में प्रवेश करने के लिए टेस्ट जरूरी:

IPL के बायो-बबल में प्रवेश करने से पहले तीन आरटी-पीसीआर टेस्ट जरूरी होंगे. रिपोर्ट नेगेटिव आने पर ही प्रवेश करने की अनुमति होगी.

9. होटल में अलग चेक-इन काउंटर:

खिलाड़ियों को नुकसान से दूर रखने के लिए उनके पास होटलों में अलग से चेक-इन काउंटर होंगे. इससे यह सुनिश्चित होगा कि खिलाड़ी कमरे से मैदान तक बाहरी लोगों के संपर्क में ना आए.

10. BCCI अधिकारियों और खिलाड़ियों के बीच कोई संपर्क नहीं:

BCCI के शीर्ष अधिकारी किसी भी बायो-बबल में प्रवेश नहीं करेंगे. बीसीसीआई के शीर्ष अधिकारी भी किसी खिलाड़ी से नहीं मिलेंगे.

You Might Also Like